My name is upendra.

नास्तिकता खंडन

आजकल के युवा अपनी तथाकथित आधुनिक मानिकता के चलते ईश्वर की उपासना आदि कर्मो को कोरा पाखंड बताकर उससे दूर भागते है । और इसी नास्तिकता के चलते कई अपराध कर बैठते है । नास्तिकता के नुकसान – १. जो व्यक्ति ईश्वर […]

इस्लाम धर्म – History

इस्लाम अरबी भाषा का शब्द है, जिसका अर्थ होता है , अल्लाह (ईश्वर ) को समर्पण । इस धर्म का उदय अरब जिसे आज सऊदी अरब कहते है , में हुआ । इसके प्रवर्तक हज़रत मुहम्मद थे । इस्लाम के पूर्व अरब […]

भय की दीवार – Motivation

आज अगर यह पोस्ट आपने पढ़ी और अपने जीवन मे उतारने का प्रयास गलती से भी कर लिया न, तो यकीन मानिए आपकी ज़िंदगी मे अभूतपूर्व सकारात्मक परिवर्तन होगा । और यदि इसे अभ्यास मतलब प्रैक्टिस में लाये तो तैयार हो जाइए […]

कर्मयोग – अवसाद (depression) से युद्ध

कर्मयोग यह शब्द आप सभी ने सुना होगा ,आप सब इसका अर्थ जो लोक प्रचलित हैं , मात्र यह कि “कर्म करो फल की चिंता मत करो” बस यह लगाते है । यह कर्मयोग का प्रारंभिक पाठ हो सकता हैं , पर […]

जबलपुर – एक रमणीय स्थल

आज बात करते है,मेरी जन्मभूमि की अर्थात जबलपुर की । स्तिथि – जबलपुर भारत देश के मध्यप्रदेश नामक राज्य का एक नगर है । जिसकी मध्यप्रदेश के मेट्रो कहे जाने वाले नगर इंदौर और राजधानी भोपाल से बराबरी की तुलना की जा […]

विपश्यना – सरल किन्तु महान साधना

लोगो मे यह भ्रान्ति है , कि योग करना , ईश्वरत्व तक पहुँचना कठिन काम है । परंतु ईश्वर तो केवल सहज व्यक्तियों को सहज मार्ग से ही प्राप्त हो जाता है । वैदिक ऋषियों ने अनेक सहज मार्ग स्थापित किये है […]

श्रमण सभ्यता (जैन धर्म)

श्रमण – श्रमण शब्द का शाब्दिक अर्थ होता है , वह व्यक्ति श्रम के द्वारा मोक्ष को प्राप्त करने में आस्था रखता हो । जिसकी यह मान्यता हो कि परम पद को प्राप्त करने के लिए केवल स्वयं का प्रयास पर्याप्त होता […]

History – वैदिक सभ्यता 2

वैदिक सभ्यता – १ में आप लोगो ने आर्य कौन है , एवं आर्यो के जीवन शैली का साधारण परिचय प्रा प्त कर लिया होगा । अब इस पोस्ट में मैं आपको ये बताऊंगा कि वेद क्या है , एवं वैदिक दर्शन […]

History – वैदिक सभ्यता 1

आज हम बात करते है , वैदिक सभ्यता की । वैदिक सभ्यता के बारे में सार्वभौम मान्यता के आधार पर इसे दो भागों में बाँटा जाता है , ऋग्वैदिक काल या पूर्व वैदिक काल (1500 – 1000 ई. पू.)और उत्तर वैदिक काल […]