विपश्यना – सरल किन्तु महान साधना

लोगो मे यह भ्रान्ति है , कि योग करना , ईश्वरत्व तक पहुँचना कठिन काम है । परंतु ईश्वर तो केवल
सहज व्यक्तियों को सहज मार्ग से ही प्राप्त हो जाता है ।
वैदिक ऋषियों ने अनेक सहज मार्ग स्थापित किये है , ईश्वर तक पहुचंने के उनमे से विपश्यना सर्व प्रमुख है ।
विपश्यना आर्यो द्वारा अपनाया जाने वाला प्राचीन और सहज योग है, जो समय के बादलों में छुप गया ,

परन्तु महात्मा गौतम बुद्ध ने इसे पुनर्जीवित कर दिखाया ।
उसी प्रकार जिस प्रकार जब सूर्य बादलो में छिप जाता है , पर जब बादल छंटते है ,
तब चारो ओर प्रकाश फैल जाता है । विपश्यना के प्रकाश ने दुख के अंधकार का नामोनिशान
मिटा कर रख दिया ।

विपश्यना

विपश्यना दो शब्दों से मिलकर बना है, वि + पश्यना । पश्य का अर्थ होता है देखना जब हम इसमे वि
उपसर्ग का प्रयोग करते है , तो यह हो जाता है ,विपश्यना । जिसका शाब्दिक अर्थ होता है ,
” विशेष प्रकार से देखना ।”

बुद्ध कहते है , कि जिस समय जहां हो केवल वही रहो शरीर से भी और मन से भी ,
केवल वर्तमान सत्य है, न भूत और न ही भविष्य ।

और वर्तमान में भी कोई घटना या विचार पर अच्छा या बुरा होने का ठप्पा मत लगाओ ,
वो केवल घटना या विचार है , उसे केवल देखो । न तो वह अच्छा है,
और न ही वह बुरा उसे केवल एक विचार की तरह देखो ।
जैसे हमारे शरीर मे सांस आति जाती रहती है, वैसे भी विचार आते जाते रहते है । हमारे मन का भय ,

चिंता ये सब एक विचार ही तो है ये एक विचार से शुरू होते है और फिर बढ़ते जाते है ,
और फिर हमारे जीवन में अच्छा या बुरा प्रभाव डालते है । क्योंकि एक सार्वभौम सत्य है ,
कि हम जैसा सोचते है , वैसा ही हम बनते चले जाते है । भगवान श्री कृष्ण ने गीता में
अर्जुन को कर्मयोग समझाते हुए इसी ओर इशारा किया था ।

वासुदेव श्री कृष्ण ने श्रीमद्भगवत गीता के तीसरे अध्याय में अर्जुन को कर्मयोग सिखाते हुए , यही कहा था , “हे पार्थ ! कर्म का कर्ता न बनकर दृष्टा बन जाओ ।
कर्म करते हुए यह भावना रखो कि तुम कुछ करते ही नही हो, सारी इंद्रिया अपने अपने विषयो
की ओर अपने अपने कर्मो को बर्तती है ।
स्वयं को कर्ता अर्थात करने वाला मानना तुम्हारी सबसे बड़ी भूल है ।

“कर्म करते हुए भी दृष्टा की भावना रखते हुए कर्म करना चाहिए । इससे हमारे अंदर निष्कामता आती है ,
फिर हमारे कर्म का फल अच्छा या बुरा हो उससे हमे न तो प्रसन्नता होगी न ही दुख ।
बस अपने कर्तव्य के पालन का एक असीम आनंद प्राप्त होगा ।

गीता के इस कर्मयोग के मार्ग पर चलना आसान नही है ,
हमारा मन राग द्वेष के बिना सरलता से रह ही नही सकता ,
वीतराग सरलता से हो ही नही सकता ।
तो मन को वीतराग करने की जो प्राचीन साधना थी , जो विलुप्त हो रही थी ,
उसमें भगवान बुद्ध ने पुनः प्राण फूंके ।
आज हम उस महान साधना को विपश्यना के नाम से जानते है ।

अनापान –

जब हम विपश्यना के द्वारा अपने जीवन में परिवर्तन को तैयार हो जाते है ,
तो सबसे प्रारम्भिक चरण में हमे अनापान करना सिखाया जाता है ।
इसमे हम अपनी सांसो के दृष्टा बन जाते है । हम बस अपनी सांसो को देखते है ,
कि सांस आ रही है और जा रही है । हमे न तो गहरी सांस लेनी है ,
और न ही अधिक धीमी बस जिस गति से हम सांस लेते है ,
उसी गति से सांस लेते रहना है और उस पर पूरा ध्यान केंद्रित करना है ।
धीरे धीरे हम विचारशून्य होते जाएंगे । यही आनापान है ।

द्वितीय चरण –

जब हम अनापान करने के अभ्यस्त हो जाते है ,
तब हमें अपनी साधना को अगले चरण में ले जाना चाहिए ।
इसमे हम जब सांसो को देख रहे होते है , तो हमारे मन मे कई तरह के विचार उठते है ।
हमे उन विचारो में संलिप्त नही होना है , उन्हें केवल एक विचार के रूप में देखना है ,
कि विचार आया और चला गया । एकदम उसी प्रकार जैसे हम सांस को देख रहे थे,
सांस आयी और चली गयी ।

फिर हमें अपने शरीर मे उठने वाली एक एक हलचल एक एक वेग संवेग को ध्यानपूर्वक देखना है ,
उसमे लिप्त नही होना केवल देखना है । ऐसा करते करते धीरे धीरे हमारा मन शांत होने लगेगा ,
सारे विचार समाप्त हो जायेंगे । इस स्तिथि को ही समाधि कहते है ।

इस प्रकार हम जीवन की प्रत्येक घटना को एक विशेष प्रकार से देखेंगे ।
घटनाओ के अच्छे या बुरे होने के कारण ही सुख या दुख होता है ,
जब हम घटनाओ को विशेष रूप से देखेंगे , तब हम स्वयं का अवलोकन भी कर पाएंगे
हमारा ध्यान समस्याओं पर नही बल्कि समाधान ढूंढने में अपने आप लग जायेगा,
हमे उसके लिए प्रयास नही करना पड़ेगा ।

मैंने कहा था , न योग साधना का मार्ग सरल है , ईश्वर को प्राप्त भी स्वभाव की सरलता के द्वारा
ही किया जा सकता है , और उस सब मे विपश्यना एक बहुत ही उपयोगी सरल मार्ग है ।
सिद्धार्थ गौतम ने इसी मार्ग पर चलकर बुद्धत्व प्राप्त किया था ,
और वे एक साधारण राजकुमार सिद्धार्थ से गौतम बुद्ध बने ।

” बुद्धं शरणं गच्छामि । “
“धम्मं शरणं गच्छामि ।”
“संघम शरणं गच्छामि । “

News Reporter
My name is upendra.

14 thoughts on “विपश्यना – सरल किन्तु महान साधना

  1. Awesome blog! Is your theme custom made or did you download it from somewhere?
    A theme like yours with a few simple tweeks would really make
    my blog stand out. Please let me know where you got your design.
    Appreciate it

  2. I think this is one of the such a lot important info for me.

    And i am happy reading your article. However want to
    statement on few general issues, The web site taste is
    perfect, the articles is truly excellent :
    D. Just right job, cheers

  3. Heya i’m for the first time here. I found
    this board and I in finding It really helpful & it helped me out a lot.
    I’m hoping to provide something back and aid others like you
    aided me.

  4. Hey there this is kind of of off topic but I was wondering
    if blogs use WYSIWYG editors or if you have to manually code with HTML.
    I’m starting a blog soon but have no coding experience so I wanted to get advice from someone with experience.
    Any help would be greatly appreciated!

  5. Thanks for any other magnificent article. Where else may anyone
    get that type of information in such a perfect way of writing?
    I have a presentation next week, and I’m at the look for such information.

  6. I am really impressed together with your writing skills and also with the structure
    in your blog. Is this a paid subject or did you
    modify it yourself? Anyway keep up the excellent quality writing, it’s uncommon to
    peer a great weblog like this one these days..

  7. Wow! Finally I got a blog from where I can truly obtain helpful information regarding my
    study and knowledge.

Comments are closed.